सिबिल स्कोर (क्रेडिट स्कोर) सुधारने के 7 तरीके

सिबिल स्कोर (क्रेडिट स्कोर) क्या होता है?

दोस्तों, किसी भी प्रकार का लोन (Loan) या क्रेडिट कार्ड (Credit Card) लेने के लिए आपको क्रेडिट स्कोर की जरुरत होती है, क्रेडिट स्कोर रेंज 3 अंको की संख्याएं है जिसमें 300 से 900 अंक होते हैं, बैंक (Bank) इसी आधार पर एक रिपोर्ट तैयार करती है जिसे सिबिल रिपोर्ट (Cibil Report) कहा जाता है |

सिबिल रिपोर्ट (Cibil Report) में आपके लोन सम्बन्धी सभी लेन-देन की जानकारियां होती है जैसे की सभी लोन सैंक्शन की तारीख (Loan Sanction Date) , मासिक किश्तें, भुगतान करने की तारीख (Payment Date), क्रेडिट यूटिलाइजेशन (Credit Utilization), लोन स्टेटमेंट (Loan Statement) सभी जानकारियों के आधार पर सिबिल रिपोर्ट में आपका क्रेडिट स्कोर तय किया जाता है, सिबिल स्कोर TransUnion Cibil द्वारा तैयार किया जाता हैं |

क्रेडिट स्कोर में जितना ज्यादा अंक होगा लोन मिलने की सम्भावना उतनी बढ़ जाती है, 750 से अधिक का स्कोर अच्छा माना जाता है 750 से कम सिबिल स्कोर होने पर पर्सनल लोन, क्रेडिट कार्ड लेने में समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं, अगर आप सिबिल स्कोर (क्रेडिट स्कोर) सुधारने के तरीकों पर ध्यान देते हैं तो आप भी क्रेडिट स्कोर में सुधार कर सकते हैं |

यह भी पढ़ें: पर्सनल लोन से होने वाली 7 बड़ी समस्याएं (मेरी कहानी)

सिबिल स्कोर (क्रेडिट स्कोर) सुधार कैसे करें?

क्रेडिट स्कोर सुधारने के तरीके हैं अगर आप इन सिबिल स्कोर सुधारने के तरीके पर ध्यान देते हैं तो आपको पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड लेने में आसानी हो सकती है |

क्रेडिट कार्ड लिमिट को पूरा खर्च न करें

दोस्तों क्रेडिट स्कोर बढ़ाने का सबसे आसान तरीका यह है की क्रेडिट कार्ड लिमिट को पूरा खर्च न करके आपको 30% जितनी रकम ही खर्च करनी चाहिए, जैसे मान लीजिये आपका क्रेडिट कार्ड का लिमिट 75000 रुपये हैं तो आपको 22500 या उससे कम रकम ही खर्च करना चाहिए , अगर आप ज्यादा खर्च करते हैं तो स्कोर कम हो जायेगा, और इसे High Credit Utilization भी कहते हैं |

समय पर भुगतान करें

समय पर भुगतान (Payment on Time) करने आप एक अच्छे उपभोक्ता का परिचय देते हैं, अगर आप बकाया राशि (Outstanding Amount) का भुगतान समय पर नहीं करते हैं तो आपके लोन अकाउंट (Loan Account) में पेनाल्टी (Penalty) भी लग सकती है जिसका आपके सिबिल स्कोर पर बुरा असर पड़ता है और स्कोर कम हो जाता हैं|

क्रेडिट रिपोर्ट (Cibil Report) में कमियों की जांच करें

दोस्तों क्रेडिट रिपोर्ट की जांच हमेशा करनी चाहिए, मान लीजिये आपने कोई लोन का पूरा भुगतान कर दिया है और वह लोन अकाउंट किसी तकनिकी कारण से बंद नहीं हुआ है तो आपको तुरंत लोन कम्पनी से इसे बंद कराना चाहिए या फिर कोई ऐसा लोन आपके सिबिल रिपोर्ट में आ गया हो जो आपने लिया ही नहीं है तो ऐसे में आपका स्कोर कम हो सकता हैं |

छोटी अवधि में कई लोन और क्रेडिट कार्ड लेने से बचें

एक समय पर अधिक लोन लेने से बचें ताकि आपको वर्तमान लोन को भरने में पैसों की कमी न हो, इससे आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा रहेगा | इसलिए एक बार में एक लोन ले और उसका समय पर भुगतान करें इससे आपके क्रेडिट स्कोर को बढ़ाने में मदद मिलेगी।

सुरक्षित लोन (Secured Loan) और असुरक्षित लोन (Unsecured Loan) का संतुलन बनाये रखें

सुरक्षित और असुरक्षित दोनों तरह के लोन आपके क्रेडिट रिपोर्ट में होने से क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं |

बार बार लोन और क्रेडिट कार्ड सम्बन्धी पूछताछ न करें

दोस्तों कई बार ऐसा होता है की आपको ईमेल, सन्देश, कॉल द्वारा लोन लेने के लिए ऑफर (Loan Offers) बताये जाते हैं जिससे आकर्षित होकर आप कई बार अपनी पात्रता (Eligiblity) जानने के लिए सभी जानकारियां लोन कंपनी को बता देते हैं, जितनी बार आपका लोन एप्लीकेशन अस्वीकार (Reject) होता है आपका सिबिल स्कोर कम होता जाता है|

जॉइंट होल्डर अकाउंट की जांच करें

जॉइंट अकाउंट होल्डर की गतिविधियों की समय पर जांच करें, उसके द्वारा की गई कोई भी लापरवाही से आपका क्रेडिट स्कोर ख़राब हो सकता हैं|

दोस्तों मैंने आपको सिबिल स्कोर (क्रेडिट स्कोर) सुधारने के तरीके के बारे में बताने का प्रयास किया अगर आप इन सिबिल स्कोर सुधारने के तरीके पर ध्यान देंगे तो अवश्य ही आपका क्रेडिट स्कोर 750 से ज्यादा होगा और लोन लेने में आसानी होगी, आशा करता हूँ दोस्तों क्रेडिट स्कोर क्या है स्कोर कैसे बढ़ाये जैसी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी तो कृपया इस पोस्ट को अपने दोस्तों और पियाजनों के साथ शेयर करें |

Leave a Comment